हिन्दी साहित्य की रचनाओं का हिन्दी वेब ब्लॉग

फिर आ गई दिवाली - मैथिलीशरण गुप्त

फिर आ गई दिवाली की हंसती हुई यह शाम रोशन हुए चिराग खुशी का लिए पयाम। यह फैलती निखरती हुई रोशनी की धार उम्मीद के चमन पे यह छायी हुई बहार। यह जिंदगी के रुख पे मचलती हुई दुल्हन घूंघट में जैसे कोई लजायी हुई दुल्हन। शायर के इक तखय्युले-रंगी का है समां उतरी है कहकशां कहीं, होता है यह गुमां। - मैथिलीशरण गुप्त

फिर आ गई दिवाली की हंसती हुई यह शाम 
रोशन हुए चिराग खुशी का लिए पयाम। 

यह फैलती निखरती हुई रोशनी की धार 
उम्मीद के चमन पे यह छायी हुई बहार। 

यह जिंदगी के रुख पे मचलती हुई दुल्हन 
घूंघट में जैसे कोई लजायी हुई दुल्हन। 

शायर के इक तखय्युले-रंगी का है समां 
उतरी है कहकशां कहीं, होता है यह गुमां।  


- मैथिलीशरण गुप्त


मैथिलीशरण गुप्त 

एक टिप्पणी भेजें

loading...

योगदानकर्ता

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget