हिन्दी साहित्य की रचनाओं का हिन्दी वेब ब्लॉग

Free Search Engine Submission

हाशिये पर हिंदी

आजादी के 68 वर्षों बाद भी हिंदी संवाद की नहीं, सिर्फ अनुवाद की भाषा बनकर रह गई है। तमाम सांविधानिक अनुच्छेदों और उपबंधों के बावजूद हिंदी हाशिये पर ही रही है। संविधान निर्माताओं ने अनुच्छेद 343 ( 1 ) में देवनागरी लिपि में लिखी गई हिंदी को संघ की भाषा का दर्जा दिया। पर क्या बीती अर्द्धशती में हिंदी संघ की भाषा बन सकी है? आज भी, अधिकांश काम हिंदी की बजाय अंग्रेजी में हो रहे हैं।

आजादी के 68 वर्षों बाद भी हिंदी संवाद की नहीं, सिर्फ अनुवाद की भाषा बनकर रह गई है। तमाम सांविधानिक अनुच्छेदों और उपबंधों के बावजूद हिंदी हाशिये पर ही रही है। संविधान निर्माताओं ने अनुच्छेद 343 ( 1 ) में देवनागरी लिपि में लिखी गई हिंदी को संघ की भाषा का दर्जा दिया। पर क्या बीती अर्द्धशती में हिंदी संघ की भाषा बन सकी है? आज भी, अधिकांश काम हिंदी की बजाय अंग्रेजी में हो रहे हैं। कई सरकारी महकमों में तो अधिकारियों को हिंदी की चिंदी करने में गर्व की अनुभूति होती है। यदि आप कश्मीर से कन्याकुमारी और कच्छ से कोलकाता ( उत्तर-पूर्व भी शामिल ) तक देखें, तो क्षेत्रीय भाषाओं के प्रभाव वाले इलाकों में टूटी-फूटी ही सही, पर सबको हिंदी आती है, यानी यह संवाद का माध्यम बनने में पूर्णतया समर्थ है। ऐसे में, जब तक आम आदमी की यह भाषा शासन व्यवस्था की भाषा नहीं बनेगी, तब तक हमारा लोकतंत्र अधूरा ही रहेगा।


~ तरुण श्रीवास्तव, खुर्जा
tsdpbs@gmail.com

एक टिप्पणी भेजें

हिंदी भाषा को पूर्णं सम्‍मान की दरकार है। सरकारी स्‍तर पर ही नहीं बल्कि वैश्विक स्‍तर पर भी उचित स्‍थान मिलना चाहिए। गूगल और माइक्रोसॉफट को भी हिंदी को अपनाना होगा।

बनारसी साड़ियाँ खरीदें केवल - Laethnic.com/sarees

योगदानकर्ता

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget