हिन्दी साहित्य की रचनाओं का हिन्दी वेब ब्लॉग

अन्याय और अपनी कमजोरियों से संघर्ष ही सत्याग्रह - सरदार वल्लभ भाई पटेल

अन्याय और अपनी कमजोरियों से संघर्ष ही सत्याग्रह - सरदार वल्लभ भाई पटेल एक संघर्ष होता है अन्याय के खिलाफ और दूसरा संघर्ष होता है, हमारी अपनी कमजोरियों के खिलाफ। सत्याग्रह कमजोर लोगों या कायरों का पंथ नहीं है।

हमें अपने समाज से ऊंच -नीच, अमीर-गरीब, जाति-पंथ के भेदभाव को खत्म कर देना चाहिए। हमें आपसी झगड़े, ऊंच -नीच के भेदभाव को खत्म कर समानता की भावना को विकसित करना चाहिए और छुआछूत को दूर करना चाहिए। हमें एक ही ईश्वर की संतान के रूप में मिल-जुलकर जीवन जीना चाहिए। हमें अपनी सरकार चलाने के लिए एकता और सहयोग की बहुत आवश्यकता है। जाति और पंथ का भेदभाव हमारी प्रगति और आगे बढ़ने की राह में बाधा नहीं बननी चाहिए। 
अन्याय और अपनी कमजोरियों से संघर्ष ही सत्याग्रह सरदार वल्लभ भाई पटेल के प्रेरक विचार
हम सभी भारत माता की संतान हैं। हमें अपने देश से प्यार करना चाहिए और पारस्परिक प्रेम और सहयोग पर अपनी नियति का निर्माण करना चाहिए। कुछ लोगों की लापरवाही आसानी से जहाज को गहरे समुद्र में डुबा सकती है, लेकिन उसे बंदरगाह तक सुरक्षित पहुंचाने के लिए जहाज पर बैठे सभी लोगों का पूरे दिल से सहयोग अति आवश्यक है। जीवन में सुख और दुख आते-जाते रहते हैं, इसलिए मौत से न डरें। राष्ट्रनिर्माण के लिए हम सभी एकजुट हो जाएं। हमें अपने सारे झगड़े भूलकर उन लोगों को काम देना चाहिए, जो भूखे हैं, उन लोगों को भोजन देना चाहिए, जो अशक्त हैं। एक सत्याग्रही के रूप में हमें हमेशा दावा करना चाहिए और हमने किया है कि हम अपने विरोधियों के साथ शांतिपूर्ण व्यवहार के लिए तैयार हैं। सत्याग्रह पर आधारित संघर्ष हमेशा दो तरह के होते हैं। एक संघर्ष होता है अन्याय के खिलाफ और दूसरा संघर्ष होता है, हमारी अपनी कमजोरियों के खिलाफ। सत्याग्रह कमजोर लोगों या कायरों का पंथ नहीं है। 

- सरदार वल्लभ भाई पटेल

- लौह पुरुष सरदार पटेल की आज जयंती है

साभार - अमर उजाला | अंतर्ध्वनि | मुरादाबाद | मंगलवार | 31 अक्तूबर 2017

एक टिप्पणी भेजें

loading...

योगदानकर्ता

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget